एक सूर्यास्त का ब्योरा

एक सूर्यास्त का ब्योरा

साहित्य का विश्व परिपार्श्व
सुपरिचित लेखक-अनुवादक। हिंदी के प्रतिष्ठित कथाकार, कवि तथा साहित्यिक अनुवादक। ...और आगे
गेट्लिनबर्ग : एक रोमांचक अनुभव

गेट्लिनबर्ग : एक रोमांचक अनुभव

यात्रा-वृत्तांत
सुपरिचित लेखक एवं अनुवादक। हिंदी में १२ काव्य-संग्रह, एक यात्रा-वृत्तांत 'धुंध और आकार', अंग्रेजी में २ काव्य-संग्रह प्रकाशित। ...और आगे
निर्णय

निर्णय

बाल-कहानी
सुपरिचित लेखक। व्यंग्य, कविता, ग़ज़ल, कहानी, लघुकथा, साक्षात्कार एवं लेख विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। ...और आगे
सिक्किम के उत्सवधर्मी लोकगीत और लोकनृत्य

सिक्किम के उत्सवधर्मी लोकगीत और लोकनृत्य

लोक-साहित्य
सुपरिचित लेखक। 'अरुणाचल का लोकजीवन', 'अरुणाचल के आदिवासी और उनका लोकसाहित्य', 'हिंदी सेवी संस्था कोश', 'राजभाषा विमर्श' एवं 'कथाकार आचार्य शिवपूजन सहाय', 'डॉ. मुचकुंद शर्मा : शेषकथा' संपादित ग्रंथ प्रकाशित। संप्रति उपनिदेशक राजभाषा।...और आगे
माटी-चंदन-सोना

माटी-चंदन-सोना

ललित निबंध
सुपरिचित लेखक। पत्र-पत्रिकाओं में आलोचना, कविता, ललित-निबंध एवं कहानी प्रकाशित। विगत २०१८ से इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हिंदी एवं आधुनिक भारतीय भाषा विभाग में सहायक आचार्य पद पर कार्यरत।...और आगे
लॉकडाउन, भ्रष्टाचार और उसके साथी

लॉकडाउन, भ्रष्टाचार और उसके साथी

व्यंग्य
सुपरिचित लेखक। लेखन क्षेत्र में बाल-साहित्य के साथ बाल-कहानियाँ, रचनाएँ निरंतर पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। माँ की सीख, आदमी से रक्षा, जंगल में दीवाली आदि अनेक कहानियाँ प्रकाशित।...और आगे
महानता के मुगालते का नया मानसिक मर्ज

महानता के मुगालते का नया मानसिक मर्ज

राम झरोखे बैठ के
जैसे-तैसे मेडिकल साइंस तरक्की कर रही है, रोज नई चुनौतियाँ भी प्रगति पर हैं। भला किसने सोचा होगा कि बैठे-ठाले कोरोना की महामारी दुनिया को घेर लेगी? कुछ विशेषज्ञों का मत था कि इसकी उत्पत्ति में चमगादड़ का योगदान है। ...और आगे
ग़ज़ल

ग़ज़ल

गजल
हास्य कवि, ग़ज़लकार एवं कार्टूनिस्ट। 'मुँड़ेरों पर चराग' ग़ज़ल-संग्रह सहित अनेक पत्र-पत्रिकाओं में ग़ज़ल प्रकाशित।...और आगे
क्या युद्ध जरूरी है

क्या युद्ध जरूरी है

कविता
सुपरिचित रचनाकार। गीत, गजल, कहानी, एकांकी, निबंध, हास्य-व्यंग्य, बाल साहित्य एवं समालोचना विधाओं में विपुललेखन। ढेरों पुरस्कार एवं सम्मानों से सम्मानित।...और आगे
बीती ताहि बिसार दे

बीती ताहि बिसार दे

आलेख
सुपरिचित लेखक। दैनिक समाचार-पत्र, मासिक पत्रिकाओं कल्याण, जाह्नवी, रचना, अंतसमणि में लेखन। अखिल भारतीय भाषा सहित भोपाल द्वारा राष्ट्रीय सम्मान से सम्मानित।...और आगे

महाराज की जय हो

लघुकथा
सुसज्जित हाथी से उतरकर आलीशान राज महल के सभागार में राजा का प्रस्थान हुआ शंख ढोल तासे, नगाड़े, काँसे, बाँसुरिया, झाल करताल, तुरही, मृदंग जोर-जोर से बजने लगे। ...और आगे
स्मृतियाँ

स्मृतियाँ

कहानी
सुपरिचित व्यंग्य-लेखक एवं उपन्यासकार। 'घूँघट के पट खोल', 'शहर बंद है', 'अटैची संस्कृति', 'अपने-अपने लोकतंत्र', 'फ्रेम से बड़ी तसवीर', 'कदंब का पेड़'......और आगे
फत्तू भूखा है

फत्तू भूखा है

प्रतिस्मृति
विलक्षण लोकयात्री देवेंद्र सत्यार्थी हिंदी साहित्य के बड़े अद्भुत कथाशिल्पी और किस्सागो थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन इस विशाल देश की धरती से उपजे लोकगीतों की खोज......और आगे

सबकी हिंदी

संपादकीय
नोबेल सम्मान मिलने के बाद कविवर रवींद्रनाथ टैगोर को देश-विदेश के अनेक संस्थानों द्वारा व्याख्यान देने हेतु आमंत्रित किया गया। इसी क्रम में उन्हें अहमदाबाद की एक संस्था ने व्याख्यान हेतु आमंत्रित किया। ...और आगे