Prabhat Books
Prabhat Books

संपादकीय

विमुद्रीकरण और संसद् का शीतकालीन सत्र
जैसी कि आशंका थी, प्रधानमंत्री के विमुद्रीकरण यानी नोटबंदी के विरोध के कारण संसद् का शीतकालीन अधिवेशन व्यर्थ गया। ...और आगे

प्रतिस्मृति

पहले कौन? पहले कौन?
मेवाड़ और मारवाड़ (जोधपुर) में परस्पर बहुत वैर बढ़ गया था। बात लगभग तीन सौ वर्ष पुरानी है। ...और आगे

आलेख

लघुकथा : बिंदु-बिंदु विचार लघुकथा : बिंदु-बिंदु विचार
नए लघुकथाकारों से मेरा आग्रह है कि वे लघुकथा की भाषा और उसके शिल्प के प्रति अधिक सचेत रहें। ...और आगे

स्‍मरण्‍ा

विवेकी राय : लेखन के मंगल भवन और तपोवन के तपस्वी विवेकी राय : लेखन के मंगल भवन और तपोवन के तपस्वी
सदैव के लिए संसार से चले जाना वस्तुतः सदैव के लिए स्मृतियों में लौट आना होता है। विवेकी रायजी के साथ भी यही हुआ। ...और आगे

राम झरोखे बैठ के

राम झरोखे बैठ के कतार में खडे़ लोग राम झरोखे बैठ के कतार में खडे़ लोग
कतार में लगना इस देश की परंपरा है। कहीं आदमी डी.टी.सी. की क्यू में खड़ा है तो कभी सिनेमा टिकट, तो कभी मंदिर में प्रभु के दर्शनार्थ। ...और आगे

साहित्य का भारतीय परिपार्श्व

गऊमाता
राजू शर्मा की ससुराल नदी के पार थी। उस गाँव में अधिकतर घर ब्राह्मणों के थे। गऊ-गरीब की रक्षा करना वे अपना पहला धर्म मानते थे। ...और आगे

साहित्य का विश्व परिपार्श्व

क्रिसमस ट्री
बच्चा एक सीलन भरे कमरे में बंद था और ठंड से ठिठुर रहा था। वह बहुत भूखा था। वह बार-बार अपनी बीमार माँ के पास, जो कमरे में एक चटाई पर लेटी थी, ...और आगे

दिवंगत लघुकथाकारो की लघुकथाएँ

शाश्वत रिश्ता शाश्वत रिश्ता
उसने धीरे से दरवाजे पर दस्तक दी। थोड़ी देर प्रतीक्षा कर उसे धकियाकर अंदर आ गई। ...और आगे

नवांकुर

शह-मात
मधु ने इकलौते बेटे की शादी को लेकर बहुत सपने सँजोए थे। धूमधाम से शादी करके वह समाज में सबको अपनी समृद्धि से परिचित कराना चाहती थी। ...और आगे

लघुकथा

फकीरा फकीरा
वह मसजिद कस्बे के किनारे थी, काफी पुरानी और ऐतिहासिक। ...और आगे